Corona काल में ग्रीन टी पीने के फायदे || Benefits of Green Tea during Covid

ठंड आ चुकी है और चाय की चुस्की समय समय पर लेना बहुत लोगों को पसंद है और बहुतों की आदत भी है। यदि यही आदत , यहां पर आदत से तात्पर्य ग्रीन टी पीने से है जो आपके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है । कभी-कभी खुश रहना और स्वस्थ रहना आज के जीवन में बेहद कठिन हो जाता है जब आप एक सवच्छ वातावरण में समय न व्यतीत कर रहे हों। जहां बहुत अधिक प्रदूषण होता है, जो फेफड़ों, हृदय और त्वचा पर विभिन्न प्रतिकूल स्वास्थ्य प्रभाव डालते हैं, जो वायु प्रदूषण से अधिक प्रभावित होते हैं। दूसरी बात, जैसा कि मैंने देखा है सभी नौकरियों या बिज़्नेसेस में तनाव का कोई न कोई स्तर होता है या आपने सिर्फ काम करने के बारे में सोचा है जो आपको थका देता है, उदास रखता है या यहाँ तक कि आपको शारीरिक या मानसिक रूप से थका देता है। ऐसे समय में हम एक चाय की चुस्की की फिराक में रहते हैं।  

मानसिक और भावनात्मक तनाव के परिणामस्वरूप अक्सर शारीरिक प्रतिक्रिया की क्षमताओं को हानी पहुंचती है। जब आप अपने वातावरण से असंतुष्ट महसूस करते हैं तो खुश और स्वस्थ महसूस करना कठिन होता है। आपका मूड आपकी ऊर्जा के स्तर के साथ-साथ नीचे गिरता है और आप के अंदर दिल की समस्याओं और अन्य गंभीर बीमारियों का विकास होने लगता हैं। लेकिन इस तरह के उपद्रव से छुटकारा पाने के लिए हमें बस स्वस्थ पेय और खाने, योग और व्यायाम जैसे कुछ छोटे मगर बेहद प्रभावी दिनचर्या और आदतों का पालन करना होगा।

हमारा आज का लेख “ ग्रीन टी पीने के फायदेBenefits of Green Tea की आदत को अपना कर ऐसी स्वस्थ जीवन शैली पर ध्यान केंद्रित करना है। जैसा कि हर कोई इसके बारे में जानता है लेकिन क्या आपको ग्रीन टी के इतिहास जानकारी है? यह आई कहाँ से? प्रभावी तरीके से ग्रीन टी लेने का उद्देश्य क्या है? स्वास्थ्य से जुड़ी जोभी चीजों और आदतों को अपनाये कृपया उसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी अवश्य रखें। आइये फिर ग्रीन टी से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी के बारे में जानते हैं।

ग्रीन टी क्या है और यह आई कहाँ से ?

क्या आप जानते हैं सदियों से सभी चाय ग्रीन टी ही थी , इसको हमने अपने स्वाद अनुसार बदला है। ग्रीन टी को चाय की पत्तियों को सूखने के बाद तैयार किया जाता है, इसके बाद इसे स्टीम, रोल और ड्राई दिया जाता है। ग्रीन टी बस कैमेलिया सिनेंसिस (Botanical name- Camellia sinensis) पौधे की पत्तियां हैं जिन्हें गर्म पानी में डुबोया जाता है। पहले चाय की पत्नियों को आज  की तरह ऑक्सीकरण प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ता था इसलिए वह अपने सबसे प्राकृतिक रूप में यानि की ग्रीन टी के रूप में थी। ग्रीन टी के इस संस्करण को आज भी दुनिया भर में पसंद किया जाता है।

ग्रीन टी की शुरुवात चीन में हुई , लेकिन यह पूरे एशिया में कई संस्कृतियों के आदान – प्रदान के दौरान जुड़ती चली गई। ग्रीन टी ने अंततः 729 और 800 ईस्वी के बीच जापान के लिए अपना रास्ता ढूंढ लिया। जापनी सम्राट ने बौद्ध भिक्षुओं को उपहार के रूप में ग्रीन टी दी। भिक्षुओं ने जपनीज़ के लिए एक महत्वपूर्ण पेय बनाने वाले व्यंजनों में ग्रीन टी का उपयोग करना शुरू कर दिया। कुछ वर्षों में उन्होंने इसकी खेती शुरू की और चीनी ग्रीन टी बाजार के साथ प्रतिस्पर्धा करते हुए अपनी चाय कई प्रकार की किस्में तैयार कीं।


Type 1 Type 2 Diabetes क्या है?  Diabetes कैसे कंट्रोल करें? जरूर पढ़ें।


ग्रीन टी के प्रकार || Types of Green Tea

मूल रूप से ग्रीन टी के विभिन्न प्रकार हैं लेकिन सबसे अच्छी और आसानी से उपलब्ध ग्रीन टी हैं: 

Types Of Green tea

  • हिमालयन ग्रीन टी- यह चाय एक बेहतरीन डिटॉक्स के रूप में काम करती है और थकान से निपटने में मदद करती है। यह पाचन, वजन घटाने और रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी सहायक होता है।
  • तुलसी हरी चाय– यह चाय भारतीय परंपरा आयुर्वेदिक और हर्बल उपचार का एक हिस्सा है।तुलसी की हरी चाय में  भरपूर मात्रा में फाइटोन्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं। यह शरीर को फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान से बचाने में मदद करते हैं।  तनाव, स्ट्रेंथ इम्यूनिटी, स्टैमिना को बढ़ावा देते हैं और पाचन और मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने में मदद करते हैं।
  • मिंट ग्रीन टी– इस चाय में आपके दिन को रोशन करने के लिए आवश्यक ताज़ा स्वाद और सुगंध होती है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट होता है जो ऊर्जा के स्तर को बढ़ाने, मनोदशा को बढ़ाने और पाचन में सुधार करने में मदद कर सकता है।
  • हनी लेमन ग्रीन टी– यह चाय शहद और नींबू के स्वाद का एक प्रकार का सुखदायक मिश्रण है जो एक ऊर्जा प्रदान करता है जो एंटीऑक्सिडेंट और फाइटोन्यूट्रिएंट से भरी होती है।
  • जैस्मिन ग्रीन टी– यह चाय चमेली के फूल के स्वाद से भरपूर होती है। इसमें कई एंटीऑक्सिडेंट होते हैं जो प्रभावी रूप से मुक्त कट्टरपंथी गतिविधि से लड़ सकते हैं और गठिया और तनाव से राहत देते हैं।

ग्रीन टी में पाए जाने वाले कुछ प्रमुख कंपोनेंट्स – 

ग्रीन टी का प्रमुख कंपोनेंट्स polyphenols है जो एंटीऑक्सिडेंट के लिए जिम्मेदार है। ग्रीन टी में चार फ्लेवोनोइड्स होते हैं Catechins Epicatechin (EC), Epigallocatechin (EGC), Epicatechin Gallate (ECG) और Epigallocatechin (EGEC).

ग्रीन टी पीने के फायदे || Benefits of Green Tea

जैसा की ग्रीन टी के कंपोनेंट्स से पता चलता है इसमें  एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में भरा होता है  जिसके निम्लिखित लाभ हैं –

  • वजन घटाने में मदद करता है– जब आप वसा खो देते हैं तो आप वास्तव में वसा कोशिकाओं से छुटकारा नहीं पा रहे हैं बल्कि वसा या एडिपोसाइट्स सिकुड़ते हैं। इसलिए Green Tea में कैटेचिन नामक खाद वास्तव में इस संकोचन को सक्रिय करता है और कैटेचिन वसा कोशिकाओं से वसा के स्राव को विशेष रूप से पेट में छोड़ते हैं।
  • त्वचा के लिए ग्रीन टी– ग्रीन टी में एक पॉलीफेनोलिक यौगिक ईजीसीजी (एपिगैलोकैटेचिन-3-गैलेट) पाया गया है जो प्रकृति में एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी है। यह मुँहासे को रोकने और त्वचा संक्रमण को कम कर सकता है।
  • दिल के लिए ग्रीन टी – चूंकि औद्योगिक देशों में हृदय रोग (सीवीडी) की घटना लगातार बढ़ रही है, इसलिए खाद्य पदार्थों में बायोएक्टिव यौगिकों की भूमिका चाय में फ्लेवोनोइड्स के साथ एक सक्रिय क्षेत्र रहा है। पॉलीफेनोलिक फ्लेवोनोइड्स की अपनी उच्च सामग्री के कारण मुख्य रूप से कैटेचिन अद्वितीय हृदय रोगों के स्वास्थ्य संबंधी लक्षण दिखाते हैं।
  • मन के लिए ग्रीन टी – संज्ञानात्मक कार्य के लिए व्यापक स्वास्थ्य लाभ प्रदान करती है। ग्रीन टी में एंटीऑक्सीडेंट मुक्त कणों के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव को रोकने के लिए काम करते हैं जो प्रदूषण, सूरज के संपर्क में आने और अन्य उम्र बढ़ने के कारकों के कारण होते हैं। ऑक्सीडेटिव तनाव एक ऐसी प्रक्रिया है जो प्राकृतिक सेलुलर प्रक्रिया को तोड़ती है। इन ब्रेकडाउन को रोकने से हरी चाय स्वस्थ स्मृति और संज्ञानात्मक कार्य का समर्थन करने में मदद कर सकती है।

कोरोना काल में है ग्रीन टी पीने के फायदे (Benefits of Green Tea during Covid )

दुनियाभर में बढ़ते संक्रमण के मामले चिंता का विषय बने हुए। सभी देश अपने अपने तरीकों से इस महामारी को हराने में लगे हुए हैं। वैज्ञानिक प्रतिदिन नई नई खोज करने में लगे हैं जिससे इस महामारी को जड़ से खत्म किया जासके। हाल ही में हुई एक शोध के अनुसार वैज्ञानिको को यह पता चला है कि  ग्रीन टी में कई ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं जो हमारी इम्युनिटी को इस हद तक मजबूत बनाते हैं जिससे हमारा शरीर कोरोना जैसे वायरस से लड़ने में सक्षम बनता है।  कोरोना काल में ग्रीन टी पीने के बहुत से फायदे हैं। RSC (Royal Society of Chemistry) General में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार ग्रीन टी में पाया जाने वाला “गैलोकैटेचिन” नामक एक कंपाउंड ग्रीन टी को कोरोना के खिलाफ लड़ने में काफी असरदार है। 

यह भी पढ़ें
Best & Unique Tea for Balancing Female Hormone

ग्रीन टी कितनी और कब पिए?

वैसे ग्रीन टी कितनी पीनी चाहिए इसका कोई निश्चित ब्योरा नहीं है लेकिन 3-4 कप प्रतिदिन ग्रीन टी पीना काफी फायदेमंद होता है आप अपने स्वाद के अनुसार ग्रीन टी का सेवन कर सकते हैं –

  • आप भोजन के बीच एक कप ग्रीन टी पी सकते हैं। पोषक तत्वों के सेवन और लोहे के अवशोषण को बढ़ाने के लिए 2 घंटे पहले या बाद में।
  • आप व्यायाम से पहले चाय ले सकते हैं क्योंकि यह ऊर्जा बढ़ा सकती है ताकि आप अधिक समय तक व्यायाम कर सकें।
  • सोने से 2 घंटे पहले पिएं, क्योंकि इसमें एल-थीनिन का एमिनो एसिड होता है जो आपको जगा सकता है।
जायदा ग्रीन टी पीने के नुकसान 

अति सर्वत्र वर्जयेत् – अति किसी भी चीज़ की नुकसान पहुँचाती है। अधिक मात्रा में ग्रीन टी का सेवन भी नुकसान पहुँचाता है

  • यदि प्रतिदिन अधिक ग्रीन टी का सेवन किया जाए तो इससे अनिद्रा, बेचैनी और पेट खराब हो सकता है।
  • ग्रीन टी एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक है, इसलिए अत्यधिक मात्रा में ग्रीन टी (चार कप / दिन से अधिक) पीने से मूत्रत्याग और इलेक्ट्रोलाइट अपघटन के कारण अत्यधिक पेशाब हो सकता है। निर्जलीकरण से सिरदर्द, सुस्ती, हृदय की दर में बदलाव और संकट भी हो सकता है।
  • ग्रीन टी से कैफीन की अत्यधिक खपत भी केंद्रीय तंत्रिका तंत्र की उत्तेजना का कारण बन सकती है जैसे कि सिर का चक्कर, अनिद्रा, कंपकंपी, अधीरता, व्याकुलता, और साइकोमोटर आंदोलन
  • यह समझना आवश्यक है कि दिन में तीन से चार कप आदर्श है क्योंकि अधिक सेवन आपके शरीर पर एनीमिया सहित कुछ गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकता है और जैसा कि हम जानते हैं कि हर खाद्य पदार्थ, जड़ी बूटी, के अपने स्वयं के दुष्प्रभाव होते हैं यदि इसकी खपत होती है अपने दैनिक जीवन में अधिक।
भारत में बिकने वाले कुछ प्रमुख ग्रीन टी ब्रांड –

निष्कर्ष :

ग्रीन टी पीने के फायदे  ,Benefits of Green Tea ब्लॉग article को लिखने का मुख्य उद्देस्य स्वास्थ्य सम्बंधित छोटी छोटी अच्छी आदतों को अपना कर कैसे हम अपना ख्याल रख सकते हैं  को उजागर करना मात्र है।

जानकारी कैसी लगी ? Comment बॉक्स में जरूर बताएं। जानकारी को शेयर जरूर करें।

आपके Comment  प्रेरणास्रोत हैं-

Author :

फिटकरी के फायदे ब्लॉग पोस्ट की राइटर

डिस्क्लेमर :

यह ब्लॉग पोस्ट स्वास्थ्य और संबंधित विषयों के बारे में सामान्य जानकारी और चर्चा प्रदान करता है। इस ब्लॉग में लिंक या की गई सामग्री में दी गई जानकारी और अन्य सामग्री को   चिकित्सीय सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए, और न ही यह जानकारी पेशेवर चिकित्सा विशेषज्ञता या उपचार का विकल्प है।

इस ब्लॉग और वेबसाइट पर व्यक्त की गई राय और विचारों का किसी भी शैक्षणिक, अस्पताल, स्थ्य अभ्यास या अन्य संस्थान से कोई संबंध नहीं है। 

 

जानकारी4U

जानकारी4U

5 Comments

Mayuri Verma

December 11, 2020 at 10:43 pm

Bahut acchi jankari Di hai apne green tea ke bare mai.. …
.thank you
Aese hi humara knowledge badhate rahe..

Reply

Payal Kanwar

December 11, 2020 at 10:56 pm

Very informative 👍

Reply

Sushmita majumdar

December 12, 2020 at 7:36 am

Very useful content I have so many questions about green tea. This will clear my all doubts.

Reply

Neha singh

December 13, 2020 at 2:22 pm

Bahut sari fayde pta chli h green tea k iss article se …
Thanku soo muchh miss shivani chitransh

Reply

Swapnil Sagar Mishra

December 25, 2020 at 11:35 am

Its good to see something health related. Keep it up Shivani.

Reply

leave a comment

Your email address will not be published.

EDITOR ROOM

VIEW ALL