मधुमेह क्या है ? | What is Diabetes in Hindi |Types of Diabetes  

आज की जीवनशैली में मधुमेह की घटना बूढ़ों में  ही नहीं बल्कि वयस्कों और बच्चों में भी  दिन-प्रतिदिन बढ़ रही है क्योंकि यह एक बहुत ही आम बीमारी है जिसका मुख्य कारण हमारा खान -पान है। इसलिए आज का ब्लॉग आर्टिकल आप सभी को  मधुमेह क्या है? What is Diabetes or Sugar in hindi? Type 1 Diabetes और Type 2 Diabetes क्या है ? Diabetes का मुख्य कारण क्या है? मधुमेह/Sugar से कैसे बचें? Sugar जैसी आम बीमारी पर जानकारी देना है।

मधुमेह क्या है ? What is Diabetes? Type 1 Diabetes, Type 2

आप किस प्रकार से अपने Sugar Level को कंट्रोल में रख सकते हैं। क्या आपको अपने कार्बोहाइड्रेट की गिनती और उसे बैलेंस करने के लिए सबसे सरल जीवन शैली और  डायबिटीज का उपचार मालूम है? स्वस्थ भोजन स्वस्थ जीवनशैली और स्वस्थ विचारों का एकमात्र ज़रिया है, इसीलिए शास्त्रों में कहा गया है –

जैसा – अन्न वैसा मन

लेकिन अगर आपको मधुमेह Diabetes/Sugar है तो क्या आप जानते हैं कि आपका भोजन किस प्रकार से आपके Sugar level को प्रभावित करता है। 

एक रिपोर्ट के अनुसार 2019 में व्यस्क आबादी का 9.3% Diabetes से पीड़ित था जो कि वर्ष 2045 तक यह संख्या 11% के लगभग बढ़ने की उम्मीद है । जाहिर है, उम्र और अधिक वजन मधुमेह के लिए मुख्य कारण हैं और विशेष रूप से युवाओं में मधुमेह का बढ़ना सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए बहुत चिंता का विषय है।

समस्या यह है कि लोगों को कभी पता ही नहीं चलता कि उन्हें मधुमेह कैसे हुआ। इस बीमारी का नुकसान क्या है और वे क्या करें। हो सकता है कि Diabetes आपकी समस्या न हो लेकिन आपको मधुमेह वाले व्यक्ति की देखभाल करना होगा क्योंकि यह उनकी मदद कर सकता है और आपको इसके बारे में अधिक जानने और इसकी बेहतर समझ रखने में भी मदद करेगा। जब आपका Sugar Level का स्तर सामान्य होता है, तो आप अधिक ऊर्जा वान महसूस करते हैं , किसी प्रकार की त्वचा या मूत्राशय संक्रमण से भी बच रहते हैं। यह आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन के कारण नहीं होता है, बल्कि आपके Sugar Level के स्तर को बनाए रखने के लिए आपके द्वारा खाए गए अलग अलग प्रकार के भोजन के कारण होता है।

किसी बीमारी के बारे में जानना ही हमें उस बीमारी के कारण और निवारण दोनों से अवगत करा देता है। आइए  फिर बिना देरी किए सबसे पहले हम समझेंगे कि मधुमेह क्या है और इसके प्रकार क्या  हैं

मधुमेह या Sugar/Diabetes क्या है?

मधुमेह हो जाने की स्थिति में शरीर के Glucose level को नुकसान पहुँचता है जिससे शरीर की कार्य  क्षमता पर प्रभाव पड़ता है। यह एक ऐसा रोग है जो शरीर में High Sugar Level का कारण बनता है। इंसुलिन हारमोन हमारे खून में पाए जाने वाले शुगर को हमारी कोशिकाओं तक पहुँचाता है जिससे हमारे शरीर को ऊर्जा मिलती है। जो खाना हम खाते हैं उससे हमारे शरीर को ग्लूकोज मिलता है । यही इंसुलिन ग्लूकोज को हमारे खून से शरीर की कोशिकाओं तक पहुँचाता है जिससे हम दिन भर ऊर्जावान महसूस करते हैं। लेकिन यदि आपको मधुमेह Sugar है तो ऐसे में हमारा शरीर या तो पर्याप्त इंसुलिन नहीं बनाता है या पूरे रूप से इंसुलिन का उपयोग नहीं कर पाता है।

जब आपके पास पर्याप्त कोशिकाएं होती हैं तो आपके Liver और मांसपेशियों के Tissues ग्लाइकोजन के रूप में ग्लूकोज को ज्यादा मात्रा में स्टोर कर लेते हैं। इसे ही Blood Sugar कहा जाता है। यही Glucose, ब्लड Sugar के रूप में टूटता है जब हमें ऊर्जा की आवश्यकता होती है। यदि मधुमेह का सही समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो Sugar Level के स्तर बढ़ने लगता है। इस बढ़ते sugar Level के कारण यह मानव शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को नुकसान पहुँचाता है। मधुमेह के कारण कई प्रकार की स्वास्थ्य बीमारियां हो सकती हैं, विशेष रूप से आंखें, गुर्दे, तंत्रिकाएं (स्ट्रोक) और हृदय में।

मधुमेह  के प्रकार और यह कैसे होता है? || Types of Diabetes and its causes ?

मधुमेह के तीन अलग-अलग प्रकार हैं – 

  1. Type 1 Diabetes
  2. Type 2 Diabetes
  3. Gestational Diabetes

Type 1 डायबिटीज/Diabetes

यह एक ऑटोइम्यून बीमारी है और जुवेनाइल डायबिटीज के नाम से जानी जाती है। Type1 Diabetes आपके माता-पिता से इन्हेरिट inherit हो सकता है। यह तब होता है जब शरीर इंसुलिन को नहीं बना पाता। Type1 Diabetes आपके द्वारा आपके बच्चों हो सकता है। Type 1  Diabetes का पता 5 साल की उम्र के बाद दिखाई देता है, लेकिन कुछ लोगों को यह उनके 30 वर्ष की आयु के आस – पास तक नहीं पता चलता है। वे ज्यादातर इंसुलिन पर निर्भर रहते हैं इसलिए उन्हें जीवित रहने के लिए प्रतिदिन कृत्रिम इंसुलिन की जरूरत पड़ती है।

क्या आप जानते हैं कि टाइप 1 डायबिटीज कैसे होता है? ||Do you know what triggers Type 1 Diabetes?

प्रतिरक्षा प्रणाली जो हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस से लड़ती है लेकिन  इंसुलिन पैदा करने वाली Cell (Islet or islets of Langerhans) को नष्ट कर देती है।

कारण- जेनेटिक, एनवायरनमेंटल तत्व Environmental elements जैसे वायरस।

Type 1 Diabetes के लक्षण– बहुत प्यास लगना (polydipsia), थकान लग्न, अत्यधिक भूख लगना (polyphagia), धुंधला दिखाई देना, बार-बार पेशाब आना (polyuria), वजन कम होना।

Type 2 Diabetes/मधुमेह –

इस प्रकार की डायबिटीज़ non-insulin dependent वयस्कों में पाई जाती है जो बॉडी में कम मात्रा में प्रोड्यूस होती है। Type 2 Diabetes तब होता है जब हम 45 साल की उम्र के बाद विशेष रूप से बूढ़े हो जाते हैं। जब आपका शरीर इंसुलिन के लिए प्रतिरोधी हो जाता है, तो आपका अग्न्याशय pancreas पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करता है और हमारे ब्लड में Sugar बनने लगता है। High Sugar Level के कारण हमारे शरीर की प्रतिरोधक छमता, Nervous System को नुकसान पहुँचता है।

कारण – ख़राब जीवन शैली सबसे बड़ा कारण हैं Type 2 Diabetes के। इंसुलिन प्रतिरोध टाइप 2 मधुमेह का सबसे आम कारण है।

Type 2 Diabetes के लक्षण – बार-बार पेशाब आना, प्यास का बढ़ जाना, हमेशा भूख लगना, थकान, धुंधली दृष्टि, धीमी गति से घाव ठीक होना, पैरों और हाथों में झुनझुनी आना, सुन्नता या दर्द, त्वचा पर गहरे रंग के पैच आना , खुजली और दाद इन्फेक्शन।

गर्भावधि मधुमेह Gestational diabetes

यह महिलाओं के गर्भावस्था के दौरान होता है जब शरीर इंसुलिन के प्रति कम संवेदनशील हो जाता है। यह मधुमेह सभी महिलाओं में नहीं होता है। आमतौर पर पहले गर्भधारण के दौरान या जन्म देने के बाद ठीक हो जाता है।


Diabaetes में Green Tea पीने के फायदे के बारे में जरूर पढ़ें।

 Sugar Level के स्तर क्या हैं? What are the levels of blood sugar?

Fasting-

Normal person 70-99 mg/dl
Diabetic person 80-130 mg/dl

खाना खाने के 2 घंटे बाद ||  2 hours after meal

Normal person Less than 140 mg/dl
Diabetic person Less than 180mg/dl

Gestational diabetes-

Fasting and before meal Less than 96 mg/dl
After meal (2hr) Less than 126 mg/dl

HBA1C (Hemoglobin A1C levels)

This test measures the amount of blood sugar (glucose) attached to Hemoglobin.

Normal person Less than 5.7%
Diabetic person 7.0% or less
Sugar Level  को कैसे कंट्रोल करें? || Treatment to Control Diabetes/Sugar

यदि आपको मधुमेह की शिकायत है और आप Sugar Level को कैसे कंट्रोल करें ? ये जानना चाहते हैं तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है। आपको अपनी दिनचर्या में नीचे लिखे कुछ आसान से उपायों को अपनाने की जरूरत है जिससे Sugar को आसानी से कंट्रोल करके आप एक स्वस्थ जीवन बिता सकते हैं।

  • हमारा आहार ही मधुमेह से बचने में सबसे महत्वपूर्ण और अहम भूमिका निभाते हैं।
  • हमें fast फ़ूड, high fat और high Carbs वाले खानों से बचना चाहिए ।
  • हमें उन व्यंजनों से बचना चाहिए जिसमे Sugar की मात्रा ज्यादा होती है।
  • हमारे आहार में वसा, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट का संतुलन होना चाहिए।
  • कुछ खाद्य पदार्थ, जैसे Refined Sugar या Bread ऐसे हैं जो हमारे Sugar Level के स्तर को बहुत तेजी से बढ़ाते हैं क्योंकि हमारे शरीर के लिए इन्हे ग्लूकोज में बदलना आसान है। ऐसे में हमें Complex Carbohydrates युक्त आहार का सेवन करना चाहिए । उदाहरण के लिए टेबल शुगर Simple  कार्बोहाइड्रेट है जबकि बीन्स और अनाज Complex कार्बोहाइड्रेट होते हैं।
  • इसके अलावा उच्च फाइबर High Fibre आहार को शामिल करें। ऐसे आहार जिसमे 25 से 35 ग्राम फाइबर की मात्रा हो जो अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने जरूरी है।
  • उच्च फाइबर वाले खाद्य पदार्थ sugars के absorption को धीमा करने में मदद करते हैं जो हमे Simple शुगर या फ्रूट से मिलते हैं।
  • हमें peas, whole grain, whole wheat, oat meal, grain साथ ही साथ जैसे कि क्विनोआ, बीन्स और दाल, नट्स, अंडा, पत्तेदार हरी सब्जियां, दही, सन बीज, लहसुन, Apple Cider Vinegar जैसे खाद्य पदार्थ को अपने आहार में शामिल करना चाहिए।
  • शारीरिक गतिविधि जैसे Yoga , Jogging , कसरत भी डायबिटीज को कंट्रोल करने में एहम भूमिका निभाते हैं ।
  • जब हम व्यायाम करते हैं तो हमारी  मांसपेशियां ऊर्जा के लिए ग्लूकोज का उपयोग करती हैं। इसलिए नियमित शारीरिक गतिविधि भी आपके शरीर को कुशलतापूर्वक इंसुलिन का उपयोग करने में मदद करती है।
Sugar कम करने के 5 घरेलू उपचार  : 
  1. आप सुबह सुबह खाली पेट करेले के जूस का उपयोग करें जो डायबिटीज को कंट्रोल में रखेगा। यह एक बहुत लाभकारी घरेलू उपचार है। 
  2. मेथी के दानो को रत भर पानी में भिगो कर रख दें और सुबह खाली पेट इस पानी का सेवन करें जो Sugar को खत्म करदेगा। 
  3. आँवला के बीज निकालकर उसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को किसी पतले कपड़े में रख कर जूस को अलग कर दें। फिर रोजाना सुबह खाली पेट 1 कप पानी में मिलकर इसका सेवन करें। आप चाहें तो करेले के जूस में इसको मिलाकर पी सकते हैं। 
  4. दालचीनी सबके किचन में होती है। रोजाना दालचीनी पाउडर को एक कप गुनगुने पानी में मिलाकर इसका सेवन करें। यह sugar कंट्रोल करने के सबसे आसान घरेलू उपचार में से एक है। 
  5. जामुन को डायबिटीज कंट्रोल करने में सबसे मददगार पाया गया है। जामुन के बीज को सुखा के पीस ले और इसके पाउडर को पानी के साथ दिन में 2 बार पियें। 
Glycemic Index क्या है?

डॉ॰ डैविड जे. जेनकींस  और उनकी टीम द्वारा टोरंटो विश्वविद्यालय में Glycemic index की शुरुवात हुई। ग्लाइसेमिक इंडेक्स Glycemic Index एक संख्या है जो हमें इस बारे में जानकारी देता है कि हमारा शरीर कितनी तेजी से कार्ब्स को ग्लूकोज में परिवर्तित करता है। जो Carbs ज्यादा तेजी से टूट के ग्लूकोस में बदलते हैं उनका Glycemic Index ज्यादा होता है और इसके विपरीत जो धीरे धीरे टूट कर Glucose में बदलते हैं उनका Glycemic Index कम होता है। 

Glycemic index का विकास यह पता लगाने के लिए किया गया कि कौन सा आहार मधुमेह रोगी के लिए अच्छा है। छोटी संख्या का मतलब हमारे Sugar Level पर भोजन का कम प्रभाव पड़ता है। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थों की तलाश करना बहुत महत्वपूर्ण है। यह 0 से 100 तक कार्ब्स को रैंक करता है।

Low (good)

55 or less

 Medium

55-69

High (bad)

70 or higher

Low GI (<55), Medium GI (56-69) and High GI (70>)

ग्लाइसेमिक खाद्य पदार्थों की पूरी सूची || Glycemic index Food List 
GRAIN/

STARCHES

VEGETABLES FRUITS DAIRY PROTEIN
Rice bran- 27

राइस ब्रान

Broccoli- 15

ब्रोकली

Grape fruit- 25

अंगूर

Low fat yogurt-14 Peanuts- 21
Bran cereal- 42 Celery- 15 Apple- 38 Plain yogurt-14 Beans,dried-40
Spaghetti- 42 Cucumber- 15 Peach- 42 Whole milk-27 Lentils-41
Corn Sweet- 54 Lettuce- 15 Orange- 44 Soy milk-30 Kidney beans-41
Wild rice- 64 Peppers- 15 Grape- 46 Fat free milk-32 Split beans-45
Whole wheat Bread – 71 Spinach- 15 Banana- 54 Skim milk-32 Lima beans-46
Baked potatoes- 85 Tomatoes- 15 Mango- 56 Fruit yogurt-36 Chickpeas beans- 46
Oat meal- 87 Chickpeas- 33 Pineapple- 66 Balck-eyed  beans-59
White Bread100 Cooked carrots-39 Watermelon- 72

Diabetes में क्या न खाएं  || What to avoid when you have diabetes?

मधुमेह वाले लोगों को विशेष रूप से तले हुए खाद्य पदार्थ, बेक्ड सामान, माइक्रोवेव पॉपकॉर्न जैसे ट्रांस फैटी खाद्य पदार्थों से बचने की जरूरत है। उन्हें चीनी के विकल्प और पेस्ट्री, कुकीज, पास्ता, चिप्स, व्हाइट ब्रेड जैसे कृत्रिम मिठास वाले सभी प्रकार के मिठाइयों से भी बचना चाहिए। इस प्रकार के आहार आपका वजन बढ़ाने का सबसे बड़ा कारण हैं। 

मधुमेह से ग्रसित लोगों को निम्न बातों का ध्यान देना चाहिए || Basic guidelines for people with diabetes

  • मधुमेह वाले लोगों के लिए भोजन का समय बहुत महत्वपूर्ण है।
  • अपना भोजन न छोड़ें। आपको रोजाना लगभग एक ही समय भोजन करने की कोशिश करनी चाहिए।
  • लंबे समय तक अगर आप स्टार्च को  पकाते हैं जैसे चावल , पास्ता तो उनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स बढ़ता है जो सेहत  लिए हानिकारक है।
  • पैकेज खाद्य पदार्थों का सेवन करने से पहले उनका ग्लाइसेमिक इंडेक्स जरूर चेक करें। 
  • मधुमेह के लिए दवा तभी लें जब आपका डॉक्टर आपको लेने की सलाह दे।

निष्कर्ष :

मधुमेह क्या है ? Type 1 , Type 2  Diabetes क्या है ? डायबिटीज  के घरेलू उपचार क्या हैं ? तथा  Diabetes जैसी आम पर हानिकारक जानकारी पर ब्लॉग article को लिखने का मुख्य उद्देस्य आम जन को इस बीमारी की जानकारी देना तथा इसके कुछ घरेलु उपचार से रूबरू कराना था । 

जानकारी कैसी लगी ? Comment बॉक्स में जरूर बताएं। इस ब्लॉग  को ज्यादा से ज्यादा शेयर जरूर करें ताकि और लोग भी इससे बच सकें। 

आपके Comment  प्रेरणास्रोत हैं।

By :

डिस्क्लेमर :

यह ब्लॉग पोस्ट “मधुमेह क्या है?What is Diabetes स्वास्थ्य और संबंधित विषयों के बारे में सामान्य जानकारी और चर्चा प्रदान करता है। इस ब्लॉग में लिंक या की गई सामग्री में दी गई जानकारी और अन्य सामग्री को चिकित्सीय सलाह के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए, और न ही यह जानकारी पेशेवर चिकित्सा विशेषज्ञता या उपचार का विकल्प है।

इस ब्लॉग और वेबसाइट पर व्यक्त की गई राय और विचारों का किसी भी शैक्षणिक, अस्पताल, स्थ्य अभ्यास या अन्य संस्थान से कोई संबंध नहीं है। 

11 thoughts on “मधुमेह क्या है ? | What is Diabetes in Hindi |Types of Diabetes  

  • February 7, 2021 at 9:28 pm
    Permalink

    Very well explained. Appreciated 👏

    Reply
  • February 7, 2021 at 9:28 pm
    Permalink

    Well done dear ,keep sharing more information with us.

    Reply
  • February 7, 2021 at 9:42 pm
    Permalink

    Helpful and informativeinformation. Although it is good for our health

    Reply
    • February 8, 2021 at 1:04 am
      Permalink

      Very very good information 👍💐💐💐🙏🏼very helpful

      Reply
      • February 8, 2021 at 7:49 am
        Permalink

        Good Information for dibitic paitent.

        Reply
    • February 8, 2021 at 12:36 pm
      Permalink

      Very very good

      Reply
  • February 7, 2021 at 10:54 pm
    Permalink

    Helpful information.
    Thanks jankari4u

    Reply
  • February 7, 2021 at 11:03 pm
    Permalink

    Well done dear👍 …..it’s very helpful information

    Reply
  • February 8, 2021 at 4:35 pm
    Permalink

    Thank you soo much to all for your time to visiting and giving views… Hope you will see such post again….

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *